चैरिटी इवेंट की तस्वीरों पर ट्रोल हुईं सीएम फडणवीस की पत्नी, ऐसे दिया जवाब

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता क्रिसमस आधारित चैरिटी इवेंट को प्रमोट करने के सिलसिले में ट्विटर पर ट्रोल हो गईं। हालांकि उन्होंने बखूबी जवाब देकर ट्रोलर्स की बोलती बंद कर दी। अमृता ने कहा, 'प्यार, शेयरिंग और सांत्वना का कोई धर्म नहीं होता।'  पेशे से बैंकर और सामाजिक कार्यकर्ता अमृता ने मंगलवार को मुंबई में हुए एक चैरिटी इवेंट की तस्वीरें ट्वीट कीं। इस पर उन्हें सोशल मीडिया पर एक हिस्से द्वारा ईसाई धर्म को प्रमोट करने, ईसाई धर्म के प्रति हिंदुओं को लुभाने और ईसाई मिशनरियों को एक अजेंडा के तहत प्रमोट करने के आरोप लगाए गए। साथ ही कई लोगों ने उन पर संस्कृति का विनाश करने के आरोप भी लगाए। अमृता से ट्रोलर्स ने पूछा कि उन्होंने बिना पटाखों वाली दिवाली का विरोध क्यों नहीं किया और हिंदू त्योहार के दौरान गरीबों के लिए कुछ क्यों नहीं किया।  अपने बचाव में अमृता ने कहा कि उन्हें हिंदू होने पर गर्व है और समाज में सौहार्द लाने और भारतीय नागरिकों को जोड़ने के लिए वह जो हो सकेगा करेंगी। उन्होंने लिखा, 'कुछ लोगों के बुरे काम की वजह से अच्छे काम करना नहीं रोक सकती है।' उन्होंने आगे लिखा, 'मुझे दूसरों की तरह ही हिंदू होने पर गर्व है। मैं अपने देश के सभी त्योहार मनाती हूं और ये मेरी व्यक्तिगत पसंद है।'