हिमाचल विजय के साथ 'अटल' सपना साकार, घट गया कांग्रेस का आकार

हिमाचल विजय के साथ 'अटल' सपना साकार, घट गया कांग्रेस का आकार

 

 
हिमाचल विजय के साथ 'अटल' सपना साकार, घट गया कांग्रेस का आकारहिमाचल विजय के साथ 'अटल' सपना साकार, घट गया कांग्रेस का आकार
गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की जीत से देश में कांग्रेस का दायरा अब और सिमट गया है। हिमाचल हार के बाद अब कांग्रेस के हाथ मात्र चार राज्यों की सत्ता बची रह गई है।

 

नई दिल्ली, जेएनएन। गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की जीत से देश में कांग्रेस का दायरा अब और सिमट गया है। हिमाचल हार के बाद अब कांग्रेस के हाथ मात्र चार राज्यों की सत्ता बची रह गई है। कांग्रेस का ये दिन देख अटल जी के कहे शब्द हकीकत में बदलते नजर आ रहे हैं। भाजपा को आज राष्ट्रीय फलक पर नई पहचान मिली है। आज से 20 साल पहले साल 1997 में अटल बिहार वाजपेयी ने संसद में कहा था- "मेरी बात को गांठ बांध लें, आज हमारे कम सदस्य होने पर आप (कांग्रेस) हंस रहे हैं लेकिन वो दिन आएगा जब पूरे भारत में हमारी सरकार होगी, उस दिन देश आप पर हंसेगा और आपका मजाक उड़ायेगा।"

भाजपा की जीत पर सटीक बैठती हैं अटल जी की ये पंक्तियां

बाधाएं आती हैं आएं,
घिरें प्रलय की घोर घटाएं,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसे यदि ज्वालाएं,
निज हाथों में हंसते-हंसते,
आग लगाकर जलना होगा।
कदम मिलाकर चलना होगा।।

19 राज्यों में भाजपा सरकार

 

हिमाचल प्रदेश में चुनाव जीतने के बाद अब भाजपा देश के 19 राज्यों में काबिज हो चुकी है। कांग्रेस के बाद भारतीय जनता पार्टी ऐसी पहली पार्टी है जिसकी केन्द्र में सरकार होने के साथ-साथ 19 राज्यों में सत्ता है। इनमें से सात राज्यों में पहली बार भाजपा ने दस्तक दी है।

 

भाजपा लगातार देश की सबसे बड़ी पार्टी बनती जा रही है। गुजरात-हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में जीत हासिल कर भाजपा ने एक और बढ़त बनाई है। भाजपा ने हिमाचल की सत्ता कांग्रेस के हाथों से छीनकर 19 राज्यों में अपनी सत्ता को बरकरार रखा है।

भाजपा अब अरुणाचल प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, गोवा, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश, मणिपुर, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, गुजरात और हिमाचल प्रदेश में अपने दम पर सत्ता में है। बिहार, आंध्र प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, सिक्किम और नागालैंड में गठबंधन की सरकार है। इन सभी राज्यों को मिलाकर भाजपा अब 19 राज्यों में अपनी सरकार बना चुकी है।

 

सिर्फ 4 राज्यों में ही बची कांग्रेस की सरकार

कांग्रेस के हाथों से सत्ता लगातार खिसकती जा रही है। हिमाचल हार के साथ ही कांग्रेस के पास अब सिर्फ चार राज्य बचे हैं। दो बड़े राज्य कर्नाटक और पंजाब के अलावा कांग्रेस के पास पुर्वोत्तर के मेघालय और मिजोरम राज्य ही बचे हैं।

परंपरागत वोटर्स का दायरा तोड़ा

मोदी और अमित शाह ने पूरी तरह से पार्टी के सोशल इंजीनियरिंग को नई धार दी। विशेषतौर पर अगड़ी जातियों के पारंपरिक तौर तरीकों से उठकर नए विधायकों को चुनने में। हालांकि, इसकी शुरूआत पार्टी ने 16 वें लोकसभा चुनाव में भी की थी। पार्टी के आंतरिक लोगों का यह मानना है कि इसके चलते पार्टी को लोकसभा चुनाव और उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में बड़ी सफलता मिली, जहां पर जातियां काफी मायने रखती हैं। भाजपा ने उत्तर प्रदेश की 80 सीटों में से 71 सीटों को अपने नाम किया। इसका ही नतीजा है कि अब हिमाचल में एक बार फिर भाजपा सरकार होगी। वहीं गुजरात में भाजपा की सत्ता बरकरार रहेगी।

मोदी के एक भारत, श्रेष्ठ भारत पर सफलतापूर्वक काम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश सबका साथ सबका विकास और एक भारत श्रेष्ठ भारत को और मजबूती मिलती दिख रही है। इसी मंत्र के मुताबिक भाजपा पंचायत से संसद तक काम कर रही है। इसीलिए, केन्द्र के बाद आज 19 राज्यों में भाजपा या भाजपा समर्थित सरकार है। कांग्रेस के हाथों से हिमाचल की सत्ता को छीनकर भाजपा ने 'कांग्रेस मुक्त भारत' के नारे में एक कदम और आगे बढ़ाया है।

देश पर चला शाह-मोदी जोड़ी का जादू

मोदी की लहर और अमित शाह के सोशल इंजीनियरिंग का जादू इस कदर चला आज कई राज्यों में कांग्रेस हाशिए पर चली गई है। राजनीतिक विश्लेषक आर. राजगोपालन ने Jagran.com से बातचीत करते हुए कहा था कि जिस तरह से सूर्य की ऊर्जा उसकी रोशनी है ठीक वैसे ही अमित शाह के दिमाग के पीछे की ऊर्जा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से है। मोदी और अमित शाह की जोड़ी काफी मजबूत है और आने वाले दिनों में उनका महत्व और भी बढ़ेगा।