राहुल गांधी का वादा, जीत के बाद आरक्षण पर बनेगा आयोग

 

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को एक प्रेस कांफ्रेस को संबोधित करते हुए भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और कहा कि हमारे सवालों का जवाब भाजपा नहीं देती है। उनहोंने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विकास एकतरफा है। अंतिम 22 वर्षों में मोदी जी और रुपाणी जी ने एकतरफा विकास किया है जो केवल 5-10 लोगों के लिए है। उन्‍होंने आगे कहा, पहले दौर में जीत के लिए हम आशवस्‍त हैं। हार देखकर भाजपा घबरा गई है। मोदी ने भ्रष्टाचार शब्द का इस्‍तेमाल खत्‍म कर दिया है। मोदी जी अगर सी-प्‍लेन में जाते हैं कोई परेशानी नहीं मुख्‍य सवाल यह है कि पिछले 22 साल में भाजपा ने क्‍या किया। अब मोदी जी भ्रष्‍टाचर पर नहीं बोलते, जय शाह और रफेल पर भी नहीं बोलते हैं।
उन्‍होंने कहा, संविधान के तहत हम चुनाव जीतने पर आरक्षण के लिए आयोग बनाएंगे। मंदिर जाने पर एक सवाल को लेकर उन्‍होंने कहा, इससे पहले भी मैं मंदिर गया हूं। केवल गुजरात ही नहीं मैं उत्‍तराखंड के मंदिर भी गया हूं। जहां मौका मिलता है वहां मंदिर जाता हूं, केदारनाथ भी गया था, वो क्‍या गुजरात में है? मैंने हर मंदिर में गुजरात का सुनहरा भविष्य मांगा है। क्या मंदिर जाना अपराध है। आज उन्‍होंने जगन्‍नाथ मंदिर में पूजा पाठ किया है। कांग्रेस अध्‍यक्ष बनने व गुजरात चुनाव के लिए कैंपेनिंग के दौरान मीडिया के साथ उनकी पहली वार्ता है। उन्‍होंने आगे कहा, जो भी निर्णय लेंगे वो गुजरात की जनता से पूछकर लेंगे आपसे बिना पूछे मनमाने ढंग से कोई भी फैसला नहीं किया जायेगा। वहीं कांग्रेस अध्‍यक्ष ने आज पीएम मोदी पर अपना 14वां सवाल दागा जिसमें उन्‍होंने गुजरात के दलितों से लेकर ऊना के मुद्दे को उठाते हुए जवाबदेही लेने की बात कही है। गुजरात चुनाव के मद्देनजर राहुल गांधी हर दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी सरकार से ट्विटर पर सवाल पूछ रहे हैं। उन्‍होंने ट्वीट कर पूछा है, ह्य न जमीन, न रोजगार, न स्वास्थ्य, न शिक्षा गुजरात के दलितों को मिली है बस असुरक्षा ऊना की दर्दनाक घटना पर मोदीजी हैं मौन इस घटना की जवाबदेही लेगा फिर कौन? कानून तो बहुत बने दलितों के नाम कौन देगा मगर इन्हे सही अंजाम?